मेघ


सावन की बारिश में ,
मेघ बरस पड़े ऐसे,
गिर रही हो चाँदी जैसे ,
छन - छन छनाक करके

छत पर किसी जो बरसे ,
आवाज को भी तरसे ,
तिरपाल पे  गरीब की ,
तड -तड तड़ाक करते

बरसे जो ये सड़क पर ,
बच्चे छपाक करते ,
गिर जाये जो गली में ,
कीचड़ बेहिसाब करते ,

टप -टप जो हुई बारिश ,
मन की गयी न तपिश ,
झर-झर जो बरसते ,
धरती को तृप्त करते

खेतों में ये बरसकर ,
किसानो को तृप्त करते ,
बेवक्त जो ये बरसे ,
नुकसान खूब करते

हिसाब भर बरसकर ,
सबका कल्याण करते ,
हद से जायदा जो बरसे ,
सत्यानाश ही करते .
 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीरियड के दौरान एक दिन की पेड लीव..........वॉओ या नो-नो!!!!!

हिमानिका -पहला भाग

प्यार बार बार होता है