प्यार बार बार होता है


कौन कहता है कि प्यार,
सिर्फ एक बार होता है।
ये तो इक एहसास है जो,
बार-बार होता है।
इसके लिए कोई सरहद कैसी,
ये तो बेख्तियार होता है,
कब कौन कैसे,
भला लगने लगे,
खुद अपना अख्तियार,
कहां होता है?
प्यार में शर्त बंधी हो जो,
तो भला ये प्यार कहां होता है।
शर्तो में बंधने वाले ,
बावफा-बेवफा में अंतर,
कहां बस एक बार होता है,
वफा करना या नहीं करना,
प्यार बस बेहिसाब कर लेना,
बेवफाई में ही हमारी,
जान बस तुम निसार कर लेना।

टिप्पणियाँ

  1. शिखा जी आपने बहुत अच्‍छा लिखा है. प्‍यार को जिन शब्‍दों में पिरोकर आपने उसे एक सूत्र में बांधा है वाकई काबिले तारीफ है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक लम्बे समय के बाद आपने कुछ अपने ब्लॉग पर लिखा है. लेकिन बहुत उम्दा लिखा है. मैं भी आपकी कविताओं का फैन हूं

    उत्तर देंहटाएं
  3. खूबसूरत अभिव्यक्ति ..




    कृपया टिप्पणी बॉक्स से वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...

    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो करें ..सेव करें ..बस हो गया .

    उत्तर देंहटाएं
  4. edar kaafi dino se vastata ke karn kuch likh nahi payi. apne blog ko bahut miss kiya maine.


    sarahna ke liye bahut aabhar.word verification htane ki salah dene ke liya dhanayavaad sangeeta ji. phale bhe ek bar ye shikayat aa chuki hai, es bar hata payi hoon.

    उत्तर देंहटाएं
  5. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 07- 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्यार में शर्त बंधी हो तो कहाँ प्यार होता है ...
    बिलकुल सही ...
    खूबसूरत एहसास !

    उत्तर देंहटाएं
  7. pyaar ! haan baar baar hota hai, naam alag alag hote hain , per pyaar jo ehsaas hai, wah ek baar panapta hai

    उत्तर देंहटाएं
  8. कब कौन कैसे,
    भला लगने लगे,
    खुद अपना अख्तियार,
    कहां होता है?
    प्यार में शर्त बंधी हो जो,
    तो भला ये प्यार कहां होता है।

    वाकई...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खुबसुरत नज्म ....दिल को छु गयी..शुभकामानाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच है प्यार तो एक एहसास है ... इसमें बंधन कैसा .... लाजवाब रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. शिखा जी,
    यक़ीनन बहुत सुन्दर प्यार की परिभाषा पढने को मिली.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर प्रेममयी रचना..

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीरियड के दौरान एक दिन की पेड लीव..........वॉओ या नो-नो!!!!!

हिमानिका -पहला भाग