हम ऐसे जिए कि

मांगी जिन्दगी हमने,
न फूलों का कोई रास्ता,
न चांदनी की रात और,
न ही बहारो की कोई सुबह,
हर बार किस्मत ने दिया,
वो मान लिया दिल से,
न कोई शिकायत की,
न कोई गिला किया,
दिल में छुपाया वो ,
जो भी दिल में था,
एक पल को भी दर्द ,
चेहरे पर आने न दिया,
जिए ऐसे दिलवाले की,
ज़माने को भी,
झुका कर पीछे किया .
और अब तो ख्वाहिश है कि ,
जिन्दगी यूं ही कट जाये ,
कोए भी शिकायत आये तो ,
मरने के बाद आये.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्यार बार बार होता है

हिमानिका -पहला भाग

क्यों बलात्कार कि शिकार भुगते सजा