Fwd: अधिकार



अधिकार मत मांगो,
अधिकार ले लो,
क्योंकि यह तो ,
छीनने की चीज है,
जीतने की चीज है,
पाने की चीज है।
अधिकार चाहते हो,
तो कर दो तुम समर्पण,
साथ रखो पवित्रता का,
मन हो पावन,
न हो कोई दुर्भावना।
रिश्तों को बनाने में,
विश्वास बड़ी चीज है,
विश्वास जीतने की,
कर लो तुम कोशिश,
साधिकार तुम मानो।
रिश्तों की परिभाषा भी,
कोई एक ही नहीं है,
भावना हो पवित्र तो,
कोई बुराई नहीं है,
साथ किसी का चाहना
अधिकार किसी पर है,
बनता इसी विश्वास से,
टूटेगा न ये रिश्ता,
किसी अंधड़ या तूफान से,
न तो किसी मांग से।
रिश्तों में नहीं होती,
केवल लेने की चाह,
देने की चाह हो तो,
लाती है संपूर्णता।



टिप्पणियाँ

  1. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीरियड के दौरान एक दिन की पेड लीव..........वॉओ या नो-नो!!!!!

हिमानिका -पहला भाग

प्यार बार बार होता है