लौट आ घर

 
साँझ ढली जाती है,
मेरा भोला पंछी न आया .
क्या किसी शिकारी ने ,
जंगल में है जल बिछाया.
दाना-दाना किया इकट्टा ,
सारा दिन वो धूप में घूमा,
जाने किसने मारा झपट्टा,
यहाँ बैठकर कर रही,
दिन भर से इंतजार ,
न जाने उत हल क्या?
कहाँ है वो बहल ,
राह भटक न जाये वो ,
भोला है नादान,
फस के जल में कहीं ,
निकल न जाये जान ,
अँधेरा गहरा रहा ,
मन के भीतर और बाहर,
भूला-भटका ही सही,
लौट आए बस घर .

टिप्पणियाँ

  1. सुंदर। अति सुंदर। भावप्रवणता अच्छी लगी।
    सूर्यकांत द्विवेदी
    dskantd@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीरियड के दौरान एक दिन की पेड लीव..........वॉओ या नो-नो!!!!!

हिमानिका -पहला भाग

प्यार बार बार होता है