छोर

मायूसियों के बादल,
छंट जायेगे,
एक नई  सुबह आयेगी ,
दस्तक देगी द्वार ,
बादल जायेगे तेरे विचार.
धुंध अँधेरी न फैलाना ,
अपने चारो ओर,
सारे रस्ते न देना रोक ,
किसी छिद्र या किसी सुराख़ से ,
सूरज कि किरने आयेगी ,
करेगी तुझको भावविभोर ,
मिलेगा तुझको भे एक छोर,
हौले -हौले संभलेगा सब ,
बिखरा है जो चारो ओर ,
दामन आशा का न छोड़ .
मिलेगा तुझको भी एक छोर ,
मिलेगा तुझको भी एक छोर.
 
 

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीरियड के दौरान एक दिन की पेड लीव..........वॉओ या नो-नो!!!!!

हिमानिका -पहला भाग

प्यार बार बार होता है