पहचान खोजती हूँ.

उम्मीदों का कारवां खोजती  हूँ,
राही हूँ सही राह खोजती हूँ,
लहरों का किनारा न सही,
डूबते को तिनके का सहारा खोजती हूँ.
पथ है धुधला, राह मुश्किल ,
सूरज कि रौशनी न सही 
दिए की रौशनी खोजती ही सही,
मंजिल न सही अधर ही सही ,
अपने सपनो का जहाँ खोजती हूँ ,
थोडा सा डर , थोड़ी कशमकश,
एक पल ख़ुशी,एक पल डर ,
दुविधा, आशा निराशा के बीच झूलती,
अपने कदमो के निशान और,
और अपनी पहचान खोजती हूँ.

टिप्पणियाँ

  1. hi shikha great job...keep going on my best wishes r wid u..
    manisha savita

    उत्तर देंहटाएं
  2. कम शब्दों में बहुत सुन्दर कविता।
    बहुत सुन्दर रचना । आभार

    ढेर सारी शुभकामनायें.

    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर कवितायें बार-बार पढने पर मजबूर कर देती हैं. आपकी कवितायें उन्ही सुन्दर कविताओं में हैं.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीरियड के दौरान एक दिन की पेड लीव..........वॉओ या नो-नो!!!!!

हिमानिका -पहला भाग

प्यार बार बार होता है