पहचान खोजती हूँ.

उम्मीदों का कारवां खोजती  हूँ,
राही हूँ सही राह खोजती हूँ,
लहरों का किनारा न सही,
डूबते को तिनके का सहारा खोजती हूँ.
पथ है धुधला, राह मुश्किल ,
सूरज कि रौशनी न सही 
दिए की रौशनी खोजती ही सही,
मंजिल न सही अधर ही सही ,
अपने सपनो का जहाँ खोजती हूँ ,
थोडा सा डर , थोड़ी कशमकश,
एक पल ख़ुशी,एक पल डर ,
दुविधा, आशा निराशा के बीच झूलती,
अपने कदमो के निशान और,
और अपनी पहचान खोजती हूँ.

टिप्पणियाँ

  1. hi shikha great job...keep going on my best wishes r wid u..
    manisha savita

    उत्तर देंहटाएं
  2. कम शब्दों में बहुत सुन्दर कविता।
    बहुत सुन्दर रचना । आभार

    ढेर सारी शुभकामनायें.

    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर कवितायें बार-बार पढने पर मजबूर कर देती हैं. आपकी कवितायें उन्ही सुन्दर कविताओं में हैं.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्यार बार बार होता है

हिमानिका -पहला भाग

क्यों बलात्कार कि शिकार भुगते सजा