हम भी शाह

पितरो के इन दिनों में,
सारे कौवों की वाह-वाह है,
उनके दिन भी फिर गये है.
पितरो के बहाने वो भी मालामाल है.
किसी ने सही कहा है कि,
घूरे के दिन भी बहुरते है,
सो सोचा कि अपने भी आयेगे,
कभी हम होगे सबसे ऊपर,
और उन पर हुकुम चलायेगे,
जो आज है हमारे ऊपर,
हो सकता है लगे कि सपना है,
सपना हि सही,
कौवो से गये गुजरे हम तो नहीं,
ये दिन भी गुजर जायेगे,
हम भी शाह कहलायेगे .

टिप्पणियाँ

  1. शुखा जी ये उत्साह बनाये रखें कुछ करने का जज़्वा हो और आत्मविश्वास हो तो इन्सान क्या नहीं कर सकता जरूर दिन आयेंगे आशीर्वाद्

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पीरियड के दौरान एक दिन की पेड लीव..........वॉओ या नो-नो!!!!!

हिमानिका -पहला भाग

प्यार बार बार होता है